निम्नलिखित प्रश्न अपने आप से पूछें और पहचाने कि जहां आप सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में गलत हो सकते हैं...

1. क्या आप पूरा पाठ्यक्रम कवर कर रहे हैं?
UPSC में पाठ्यक्रम के किसी भी क्षेत्र से यादृच्छिक रूप से प्रश्न पूछने की प्रवृत्ति होती है। इसके इलावा, परीक्षा में कोई विकल्प भी नहीं होता। इसीलिए, पूरे पाठ्यक्रम का अच्छे से अध्ययन करना बहुत जरूरी है।

2. क्या आप नियमित रूप से टेस्ट दे रहे हैं? 
जब तक उम्मीदवार मॉक टेस्ट नहीं देता और अन्य योग्य उम्मीदवारों के साथ मुकाबला नहीं करता तब तक परीक्षा की तैयारी पूरी नहीं होती। नियमित टेस्ट देने से छात्र को निम्नलिखित लाभ होते हैं:

 उम्मीदवार को अपनी कमजोरियों का पता चलता है ताकि वह उस पर काम कर सके।
 मजबूत विषय और मजबूत होते हैं।
 उम्मीदवारों के बीच डर, संदेह दूर होते हैं और आत्मविश्वास पैदा होता है।

3. क्या आप पिछले वर्षों के प्रश्नों को हल कर रहे हैं?
हालांकि यह बहुत दुर्लभ है कि पुराने प्रश्न दोहराए जाएं लेकिन यह एक स्वीकार किया गया तथ्य है कि उसी प्रतिरूप का पालन किया जाता है। पिछले वर्षों के प्रश्न उम्मीदवार को तैयारी करने में मार्गदर्शन करते हैं और उम्मीदवारों को इस बारे में अवगत करते हैं परीक्षा में उनसे क्या उम्मीद की जा रही है।

4. अभ्यास के दौरान आप कितनी बार उत्तर लिखते हैं?
मुख्य परीक्षा में अंक इस बात पर निर्भर करते हैं कि आपको विषय का कितना ज्ञान है और आप उस ज्ञान को किस तरह प्रस्तुत करते हैं। इसीलिए दिन-प्रतिदिन आधार पर नियमित उत्तर लेखन अत्यंत महत्वपूर्ण है। उत्तर लेखन में, निम्नलिखित पहलुओं पर काम करें:

– परिचय, मुख्य भाग और निष्कर्ष का तैयार करना।
– सामग्री व्यवस्थित करने, सुझाव देने और आरेख बनाने की तकनीक।
– विभिन्न रूपों में पूछे गए प्रश्नों के उत्तर देने की क्षमता।
– उत्तर लिखने में सटीकता
– निम्नलिखित शब्दों के लिए स्पष्टता-  ‘स्पष्ट करें’ , ‘मूल्यांकन’ , ‘समालोचनात्मक मूल्यांकन’ , ‘चर्चा (विवेचना) करें’ , ‘संक्षेप में स्पष्ट करें’ , ‘पता लगाएं’ , ‘किस हद तक’ , ‘महत्व’ , ‘व्याख्या’ , ‘वर्णन’ , ‘चिन्हांकित करें (प्रकाश डालिए)’, ‘जांच करें (परीक्षण कीजिए)’ , ‘विशदीकरण करें (व्याख्या कीजिए)’ , ‘अंतर करना’ , ‘तुलना’ , ‘टिप्पणी’ , ‘आकलन’ इत्यादि।

5. क्या आप व्यापक और संक्षिप्त अध्ययन सामग्री का पालन करते हैं?
IAS परीक्षा में विभिन्न विषयों और उप विषयों से प्रश्न शामिल होते हैं। इस प्रकार, IAS परीक्षा की तैयारी के लिए अध्ययन सामग्री व्यापक होनी आवश्यक है। विषय पुस्तकों के अलावा समसामयिकी मामलों पर भी ध्यान दें।

जैसा कि IAS परीक्षा में बहुत अधिक पाठ्यक्रम शामिल होता है इसलिए सफलता के लिए उपयुक्त समय का उपयोग महत्वपूर्ण है। इस प्रकार, पाठ्यक्रम सामग्री का अध्ययन करना महत्वपूर्ण है जो व्यापक है वहीं दूसरी ओर, केंद्रित और संक्षिप्त है।

6. क्या आप बार-बार अभ्यास कर रहे हैं? 
नई अवधारणाओं में निपुण होने और कई तथ्यों को सीखने में समय लगता है, इसलिए हम पाठ्यक्रम का बार-बार अभ्यास करने का सुझाव देते हैं।

7. परीक्षा से पहले आपने कितने निबंध लिखे हैं?
अक्सर मुख्य परीक्षा की तैयारी करने वाले उम्मीदवार, परीक्षा में अपना पहला निबंध लिखते हैं। हम पिछले वर्षों के प्रश्नपत्रों के हल के साथ परीक्षा से पहले कम से कम 5 निबंध लिखने की सलाह देते हैं। सीधे ही उत्तर पुस्तिका में निबंध लिखना जोखिम भरा साबित हो सकता है और यह आपके अंको को बहुत कम कर सकता है।

 



hi_INहिन्दी
en_USEnglish hi_INहिन्दी